कोरोना वायरस के कारण जेल में बंद आसाराम सहित अन्य कैदी भूख हड़ताल पर, रिहाई की मांग

कोरोना वायरस के कारण जेल में बंद आसाराम सहित अन्य कैदी भूख हड़ताल पर, रिहाई की मांग

  2020-03-25 01:05 pm

जोधपुर सेंट्रल जेल में बंद आसाराम और राजस्थान सरकार के पूर्व मंत्री महिपाल मदेरणा सहित अन्य कैदियों ने भूख हड़ताल शुरू की है। आसराम और अन्य बंदी जेल में कोरोना वायरस का संक्रमण फैलने की आशंका जताते हुए रिहाई की मांग कर रहे हैं। कैदियों ने जेल प्रशासन को प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री, सुप्रीम कोर्ट और राजस्थान हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के नाम अपनी मांगों का ज्ञापन सौंपा है। जानकारी के अनुसार जोधपुर सेंट्रल जेल में इस समय सजायाफ्ता और ट्रायल वाले 1375 कैदी मौजूद हैं।

कोरोना वायरस के संक्रमण और महामारी को देखते हुए मंगलवार को सभी कैदियों ने भूख हड़ताल कर दी। सुबह सेंट्रल जेल में खाना बनाया गया, लेकिन किसी भी कैदी ने खाना नहीं खाया हैं। कैदी खुद को छोड़न ने की मांग कर रहे है । उधर जेल प्रशासन ने ऐसे कैदियों की सूची तैयार की है, जिन्हें पैरोल पर छोड़ा जा सकता है । यह सूची राज्य सरकार के पास भेजी जाएगी। उसके बाद राज्य सरकार तय करेगी कौन से कैदी को पैरोल पर भेजना है या किसकी सजा माफ करके छोड़ा जाना है ।

भीलवाड़ा और झुंझुनूं में कर्फ्यू जारी रखने का निर्णय

कोरोनावायरस को लेकर देश में चर्चित हो चुके राजस्थान के भीलवाड़ा और झुंझुनूं में फिलहाल कर्फ्यू जारी रहेगा। भीलवाड़ा में अब तक 13 लोग कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। वहीं संदिग्धों की संख्या भी अधिक है। हालात की गंभीरता को देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और डब्ल्यूएचओ की टीम मंगलवार को लगातार चौथे दिन भी भीलवाड़ा में ही रही।

भीलवाड़ा जिला कलेक्टर राजेंद्र भट्ट ने मंगलवार देर शाम स्थिति की समीक्षा करने और सरकार से मिले निर्देशों के बाद शहर में कफ्र्यू फिलहाल जारी रखने का निर्णय लिया है। यहां कर्फ्यू जारी है। उधर 4 कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद झुंझुनूं के आधे शहर में कर्फ्यू लगा हुआ है।

news news news news news news news news