राजस्थानी भाषा की मान्यता के लिए ज्ञापन दिया

  2020-02-20 12:36 pm

राजसमंद (राव दिलीप सिंह) जिले में अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस 21  फरवरी की पूर्व संध्या पर राजस्थानी भाषा की संवैधानिक मान्यता के लिए प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री के नाम जिला कलेक्टर के माध्यम से साकेत साहित्य संस्थान के साहित्यकारों ने ज्ञापन दिया। 

 संस्थान के जिला अध्यक्ष नारायण सिंह ने बताया कि ज्ञापन में मांग की गई है कि 25 अगस्त 2003 को राजस्थान सरकार ने राजस्थानी भाषा की मान्यता के लिए राजस्थान विधानसभा से प्रस्ताव पारित करके केंद्र सरकार को प्रेषित कर रखा है लेकिन अभी तक मान्यता नहीं मिली 17 दिसंबर 2006को लोकसभा में तत्कालीन गृह राज्य मंत्री श्री प्रकाश जायसवाल ने घोषणा की थी कि राजस्थानी एवं भोजपुरी को आठवीं अनुसूची में शामिल करने हेतु केंद्र सरकार ने सैद्धांतिक  सहमति प्रदान की है । 

संविधान के अनुच्छेद 351  के अंतर्गत राजस्थानी भाषा को मान्यता प्रदान की जावे । 

इस अवसर पर राजस्थानी भाषा के साहित्यकार चतुर कोठारी, राजेंद्र कुमार राजन, नारायण सिंह राव ,परितोष पालीवाल, राजेन्द्र सिंह चारण  ,हेमेंद्र सिंह चौहान, मुकेश शर्मा, श्रीमती वीणा वैष्णव, यशवंत कुमार शर्मा, छगनलाल प्रजापत ,मधु पालीवाल ,मनीष नंदवाना सहित अनेक साहित्यकार उपस्थित थें ।

news news news news news news news news